Member Login

fb login Forgot Password ?

Not a member yet? Sign Up!

प्रो कबड्डी लीग - पिंक पैंथर्स को पुनेरी पल्टन ने दी पटखनी

जयपुर। पुनेरी पल्टन ने यहां सवाई मानसिंह स्टेडियम में हुए स्टार स्पोर्ट्स प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के चौथे सीजन के 14वें मैच में स्थानीय टीम जयपुर पिंक पैंथर्स को 33-28 से हरा दिया। इस जीत के साथ ही पुनेरी पल्टन टीम पांच मैचों से 19 प्वॉइंट लेकर प्वॉइंट टेबल में टॉप पर पहुंच गई। पल्टन को अब तक पांच मैचों में सिर्फ एक हार मिली है। वहीं पैंथर्स की यह दूसरी हार रही। पैंथर्स हालांकि अभी भी दूसरे नंबर पर मौजूद हैं।

पुनेरी पल्टन ने जयपुर के जसवीर सिंह की रेड को नाकाम करते हुए मैच का पहला अंक टैकल से हासिल किया। पहले हाफ में दोनों टीमों के बीच कांटे की टक्कर रही। पुनेरी पल्टन ने एक समय 22-14 की बड़ी बढ़त हासिल कर ली थी, लेकिन घरेलू दर्शकों के सामने खेल रहे पिंक पैंथर्स आखिरकार हाफ टाइम तक अंकों का अंतर तीन तक कम करने में सफल रहे।
हाफ टाइम के बाद हालांकि पुनेरी पल्टन टीम ने टैकल के जरिए लगातार अंक हासिल करते हुए जीत हासिल की। पुनेरी पल्टन टीम जहां रेड के जरिए 22 के मुकाबले सिर्फ 16 अंक हासिल कर सकी, वहीं टैकल में बाजी मारते हुए उन्होंने छह के मुकाबले 13 अंक जुटाए। जयपुर की टीम एक बार भी पुनेरी पल्टन को आॅल आउट नहीं कर सकी, वहीं पुनेरी पल्टन ने आॅलआउट के जरिए चार अंक हासिल किया। पुनेरी पल्टन के लिए दीपक निवास हुडा ने सबसे ज्यादा नौ अंक जुटाए, जबकि कप्तान मंजीत चिल्लर सात अंक हासिल कर सके। जयपुर के लिए अजय कुमार ने सर्वाधिक 11 अंक जुटाए।
..................

क्रिकेट की बेहतरी के लिए मीटिंग
धोनी और कोहली ने साझा किए एक्सपीरिएंस
:- क्वालिटी स्पिनर करें तैयार
:-चोट की समस्याओं का निदान हो
:- तेज गेंदबाजों का पूल बने
बैंगलौर। टीम इंडिया के टेस्ट कप्तान विराट कोहली और सीमित ओवरों के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टीम के चीफ कोच अनिल कुंबले और इंडिया ए के कोच राहुल द्रविड़ के साथ आगामी सीजन के लिए अपना रोडमैप साझा किया। काफी देर तक चली इस मीटिंग में चीफ सिलेक्टर संदीप पाटिल, एनसीए के बैटिंग को वी रमन, स्पिन बॉलिंग कोच नरेंद्र हिरवानी, जूनियर टीम के मुख्य सिलेक्टर वेंकटेश प्रसाद और फीजियो एंड्रयू लीपस भी मौजूद थे।
इस मीटिंग में डोमेस्टिक क्रिकेट, इंडिया-ए के दौरे, चोट की समस्याओं और बेंचस्ट्रेंथ बढ़ाने जैसे तमाम मुद्दों पर बात की गई। इस मीटिंग के बारे में बीसीसीआई के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने कहा है कि इस मीटिंग का असली उद्देश्य सभी पार्टियों को साथ में लाना था। इनकी सलाह के आधार पर ही बीसीसीआई आगे के निर्णय लेगी, ताकि क्रिकेट को नई ऊंचाई पर ले जा सकें।
चीफ कोच अनिल कुंबले ने कहा कि इस मीटिंग से साकारात्मक परिणाम ही निकले हैं। हम सबका एक ही उद्देश्य है कि भारतीय क्रिकेट को बेहतर किया जा सके। सभी को एक टीम की तरह काम करना होगा। कुंबले ने इस मीटिंग के लिए बीसीसीआई का आभार भी जताया।
धोनी ने जिंबाब्वे दौरे में टीम की बेंच स्ट्रेंथ और ए के खिलाड़ियों के बारे में अपनी राय बताई। इस मीटिंग के बाद फर्स्ट-क्लास क्रिकेट से ए टीम और फिर राष्ट्रीय टीम के लिए खिलाड़ी तैयार करने की बात की गई। चोट की समस्या को मद्देनजर रखते हुए तेज गेंदाबाजों की पूरा पूल बनाने की भी बात की गई, ताकि खिलाड़ियों को आसानी से रोटेट किया जा सके और लंबे दौरों के चलते होने वाली चोटों को कम किया जा सके।
क्वालिटी स्पिनर्स तैयार करें
इसके अलावा टीम में क्वालिटी स्पिनर्स की भी बात की गई क्योंकि रविचंद्रन अश्विन, अमित मिश्रा और रविंद्र जड़ेजा के अलावा टीम में कोई मुख्य धारा वाला असरदार स्पिनर नहीं है। यह जिम्मेदारी राहुल द्रविड़ की होगी कि वो अक्षर पटेल, यजुवेंद्र चहल, जयंत यादव और शाहबाज नदीम को तैयार करें। इंडिया-ए अगस्त में आॅस्ट्रेलिया का दौरा करने वाली है। इस दौरे पर कोहली और कुबंले की खास नजर होगी क्योंकि चोट या खराब फॉर्म के कारण बाहर होने वाले खिलाड़ियों के विकल्प यहीं से तैयार होंगे।
......................

टीम इंडिया के लिए खराब शुरुआत
रविचंद्रन अश्विन हुए चोटिल
बैंगलौर। वेस्टइंडीज दौरे के लिए बेंगलुरू में प्रैक्टिस कर रही भारतीय टीम के कैंप से अच्छी खबर नहीं आई। खबर है कि सुबह को अभ्यास सत्र के दौरान टीम इंडिया के आॅफ-स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के हाथ में बॉल लग गई और वो चोटिल हो गए हैं। सूत्रों के हवाले से खबर है कि अश्विन को दाहिने हाथ में बॉल लगने के कारण चोट आई है। इस कारण अश्विन को चोटिल हाथ के साथ अभ्यास सत्र से बाहर जाना पड़ा। अश्विन भारत के प्रमुख स्पिनर हैं। इसके अलावा हाल ही में वेस्टइंडीज में हुई त्रिकोणीय 
सीरीज में स्पिनरों को काफी मदद मिली थी। इस कारण अश्विन भारत के लिए तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैं। अश्विन को चोट कितनी गंभीर है और वो कब तक बाहर रहेंगे, इस बारे में अभी कुछ भी कह पाना मुश्किल है। सुबह के सत्र में अश्विन ने शिखर धवन का खासा परेशान किया। 
अश्विन 2015-16 में टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। वो आईसीसी के नंबर एक टेस्ट बॉलर भी बने। हालांकि सीमित ओवरों के क्रिकेट में वो इतने कारगर साबित नहीं हुए। टी-20 वर्ल्ड कप के बाद से ही अश्विन फॉर्म में नहीं है, मगर कोच कुंबले को उनसे काफी उम्मीदे हैं। आईपीएल में अश्विन 14 मैचों में सिर्फ 10 विकेट हासिल कर पाए, जिसके कारण पुणे सुपरजायंट्स का प्रदर्शन काफी खराब रहा।
21 जुलाई से सीरीज
21 जुलाई से वेस्टइंडीज की मेजबानी में भारत चार टेस्ट मैचों की सीरीज खेलेगी। नए कोच अनिल कुंबले की निगरानी में यह भारत की पहली सीरीज होगी। बेंगलुरू में हो रहें प्रैक्टिस कैंप का आज आखरी दिन है। अश्विन की चोट भारत की तैयारियों को एक बड़ा झटका है। अश्विन किसी भी विकेट पर अच्छी बॉलिंग करने का दमखम रखते हैं, जो बल्लेबाजों के लिए परेशानी खड़ी कर सकती है।

सम्बंधित खबरॆ
News
खेल
बाक्सिंग में यूपी का दबदबा

बाक्सिंग में यूपी का दबदबा

कानपुर। बाक्सिंग इंडिया चुनाव में उप्र बाक्सिंग संघ के महासचिव अनिल मिश्र को कायर्कारिणी सदस्य चुना गया है। बाक्सिंग इंडिया में पहली बार संयुक्त सचिव समेत कई पद…

और पढ़े

Write Your Comment
 
 
http://www.lnstarnews.com/site_images/captcha/1501261481.55.jpg refresh
Facebook twitter google rss pinterest ln star news