Member Login

fb login Forgot Password ?

Not a member yet? Sign Up!

कोहली के भरोसे ने बचाया संन्यास से - युवी का खुलासा

कटक। कैंसर को हराने के बाद क्रिकेट के मैदान पर वापसी करने वाले युवराज सिंह ने गुरुवार को एक बड़ा खुलासा किया। इंग्लैंड के खिलाफ 150 रनों की धमाकेदार पारी खेलकर मैन आॅफ द मैच बने युवी ने कहा कि कप्तान विराट कोहली के भरोसे की वजह से उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा नहीं कहा।
युवी ने बताया कि उन्होंने एक समय क्रिकेट को अलविदा कहने के बारे में सोच लिया था, लेकिन विराट के विश्वास ने उसे ऐसा करने से रोका और उस विश्वास पर खरा उतरना इस धाकड़ बल्लेबाज के लिए लाजमी था। तीन मैचों की सीरीज के दूसरे वनडे में युवी ने अपने वनडे करियर की बेस्ट पारी खेली।
इसके बाद उन्होंने कहा, जब आपको टीम और कप्तान का भरोसा हासिल हो तो आत्मविश्वास आ ही जाता है। विराट ने मुझ पर काफी भरोसा दिखाया है और मेरे लिए यह काफी अहम है कि ड्रेसिंग रूम में लोगों को मुझ पर भरोसा हो।
उन्होंने कहा, एक समय ऐसा भी था जब मुझे लग रहा था कि मुझे खेलते रहना चाहिए या नहीं। कई लोगों ने इस सफर में मेरी मदद की। मेरा फलसफा कभी हार नहीं मानने का है और मैं कभी हार नहीं मानता। मैं मेहनत करता रहा और मुझे पता था कि समय बदलेगा। इससे पहले युवराज ने आखिरी सेंचुरी 2011 वर्ल्ड कप में चेन्नई में लगाई थी।
उन्होंने कहा, मुझे सेंचुरी बनाए लंबा समय हो गया था। मैं कैंसर से उबरकर खेल में लौटा हूं और पहले दो-तीन साल काफी कठिन थे। मुझे फिटनेस पर मेहनत करनी पड़ी और मैं टीम से अंदर-बाहर होता रहा। मेरी जगह टीम में पक्की नहीं रही। इस सीजन में रणजी ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन के दम पर युवी की वापसी हुई है जिन्होंने अक्टूबर में बड़ौदा के खिलाफ 260 रन बनाए थे।
न अखबार न टीवी...
युवराज ने कहा, मैंने डोमेस्टिक सीजन में अच्छी बल्लेबाजी की। मैं बड़ी पारी खेलना चाहता था। युवराज को टीम में शामिल करने पर मिली जुली प्रतिक्रिया हुई थी और कुछ ने इसे पीछे की ओर कदम बताया लेकिन इससे इस खब्बू बल्लेबाज पर असर नहीं पड़ा। उन्होंने कहा, मैं इस बारे में नहीं सोचता कि कौन क्या कह रहा है और ना ही अखबार पढ़ता हूं। मैं टीवी भी नहीं देखता हूं। मैं अपने खेल पर फोकस करने की कोशिश करता हूं ताकि यह साबित कर सकूं कि अभी भी मेरे अंदर क्रिकेट बचा है।
इस लय को कायम रखूंगा
युवी ने कहा कि अब उनका लक्ष्य लगातार अच्छा प्रदर्शन करना है। उन्होंने कहा, 150 रन वनडे क्रिकेट में बड़ा स्कोर है। यह मेरा बेस्ट स्कोर है और मुझे यहां तक पहुंचने में काफी समय लगा लेकिन मैं इस पारी से बहुत खुश हूं। इस लय को कायम रखने की कोशिश करूंगा। युवी और महेंद्र सिंह धौनी ने चैथे विकेट की साझेदारी में 256 रन जोड़े। इस बारे में युवी ने कहा, हम दोनों टीम में सबसे अनुभवी खिलाड़ी हैं। उसे लगा कि मैं चैके लगा रहा हूं तो उसने स्ट्राइक रोटेट करना जारी रखा। हमारा पहला लक्ष्य साथ में 25 रन और फिर 50 रन पूरे करना था। इसके बाद हम शतकीय साझेदारी पूरी करना चाहते थे।
इंग्लैंड टीम है खतरनाक
युवराज ने इस इंग्लैंड टीम को खतरनाक बताया जिसने दोनों वनडे में 350 से अधिक रन बनाए। उन्होंने कहा, श्वे बहुत अच्छा खेल रहे हैं और उनके पास मिडिल आॅर्डर में कई खतरनाक खिलाड़ी हैं जो गेंदबाजों का मनोबल तोड़ सकते हैं। जितना ज्यादा ये खेलेंगे, उतना खेल बेहतर होगा।

सम्बंधित खबरॆ
खेल

रहाणे और रॉबिन ने एक दूसरे को दिया दीवाली तोहफा

नई दिल्ली। जर्मन फुटबॉल क्लब बायर्न म्यूनिख ने भारतीय बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे को जर्सी के रूप में दीवाली का तोहफा दिया है।रहाणे ने ट्विटर पर जर्सी के साथ एक…

और पढ़े

Write Your Comment
 
 
http://www.lnstarnews.com/site_images/captcha/1498319392.83.jpg refresh
Facebook twitter google rss pinterest ln star news