Member Login

fb login Forgot Password ?

Not a member yet? Sign Up!

रियो पर दंगल : सुशील ने पीएम को लिखा पत्र जो ट्रायल में जीते उसे भेजा जाए

   नई दिल्ली। दो बार के ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार और देश को ओलंपिक कोटा दिला चुके नरसिंह यादव के बीच 74 किग्रा फ्री स्टाइल वर्ग में ट्रायल कराने या न कराने के विवाद में सुशील ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है। सुशील ने नरसिंह के साथ ट्रायल कराने को लेकर प्रधानमंत्री केंद्रीय खेल मंत्री सर्बानंद सोनोवाल, भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) और भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) को पत्र लिखा है। सुशील ने अपने पत्र में अपील की है कि उनका नरंिसह के साथ ट्रायल कराया जाए और उन दोनों में जो पहलवान बेहतर हो वह भी ओलंपिक जाए।
इस संदर्भ में डब्ल्यूएफआई के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह का एक टीवी चैनल को दिया बयान भी खासा उल्लेखनीय हो जाता है जिसमें उन्होंने कहा कि यह मामला अभी सुलझने वाला नहीं है और मुझे लगता है कि यह प्रधानमंत्री तक जा सकता है। आगे जैसी परिस्थिति आती है और मुझे जो अधिकार प्राप्त हैं, उसे देखकर हम देशहित में ही कोई फैसला करेंगे। हालांकि डब्ल्यूएफआई के अध्यक्ष ने कल साफ शब्दों में कहा था कि जिस पहलवान ने ओलंपिक के लिये क्वालीफाई किया है, वही ओलंपिक में जायेगा।
इस बीच सुशील के गुरू सतपाल ने भी कहा हमारी सिर्फ इतनी सी मांग है कि दोनों पहलवानों के बीच ट्रायल होना चाहिये और जो बेहतर हो वही ओलंपिक जाये। ट्रायल कराने में कहीं कोई बुराई नहीं है और जो पहलवान ट्रायल जीतकर ओलंपिक में जाएगा वह अच्छा प्रदर्शन कर सकेगा। हम इस मामले में हर स्तर तक जाएंगे और ट्रायल कराने के लिये कहेंगे। सुशील ने प्रधानमंत्री, खेल मंत्री, आईओए और कुश्ती महासंघ को पत्र लिखा है। गौरतलब है कि कुश्ती महासंघ की तरफ से भारतीय ओलंपिक संघ को रियो ओलंपिक के लिये पहलवानों की जो सूची भेजी गयी है, उसमें 74 किग्रा वर्ग में सुशील का नाम नहीं है और बृजभूषण के बयान के बाद सुशील के लिये ओलंपिक रास्ते बंद माने जा रहे हैं। लेकिन सुशील अब भी उम्मीद का दामन थामे हुये हैं और उन्होंने प्रधानमंत्री तक अपील कर दी है।
विवाद की वजह
सुशील कुमार के मामले में पेंच फंसने की वजह यह है कि वह जिस कैटिगरी में ओलिंपिक्स में खेलना चाहते हैं उसमें उन्होंने कोटा हासिल नहीं किया है। सुशील हमेशा से 66 किलोग्राम वेट कैटिगरी में खेलते रहे हैं। इसी कैटिगरी में उन्होंने ओलिंपिक्स में दो-दो मेडल हासिल किए हैं। हालांकि, फिलहाल उनका वजन बढ़ा है और अब वह 74 किलोग्राम वजन कैटिगरी में हिस्सा लेने के लिए तैयारी कर रहे हैं। इसी वजन वर्ग में नरसिंह पंचम यादव ने कोटा हासिल किया है। नरसिंह ने पिछले साल वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर रियो के लिए कोटा हासिल किया था। मेडल जीतने के राह में उन्होंने लंदन ओलिंपिक्स के मेडलिस्ट को भी चित किया था। नरसिंह को इस वेट कैटिगरी में अच्छा अनुभव है जबकि सुशील बड़े नाम हैं। दिक्कत यहीं है कि आखिर किया सुशील को नरसिंह के हासिल किए गए कोटे पर भेजा जाए या फिर नरसिंह के साथ न्याय किया जाए।
कोटा का फंडा
ओलिंपिक्स के नियमों के मुताबिक कुछ खेलों में प्लेयर्स सीधे क्वॉलिफाई ना करके देश के लिए कोटा हासिल करते हैं। ओलिंपिक्स के डेढ़-दो साल पहले होने वाले कुछ टूनार्मेंट्स को मार्क किया जाता है जिनमें खेलकर और एक निर्धारित पोजिशन हासिल करके प्लेयर कोटा हासिल करता है। सामान्य परिस्थितियों में कोटा हासिल करने वाला प्लेयर ही ओलिंपिक्स में जाता है। लेकिन, अगर ओलिंपिक्स के ऐन पहले कोटा हासिल करने वाले प्लेयर की लय खराब हो जाती है या फिर वह चोटिल हो जाता है, तो उसकी जगह उस कैटिगिरी में देश के दूसरे प्लेयर को भेजा जाता है।
सोशल मीडिया पर की फैन्स से अपील
देश के लिये दो ओलंपिक पदक जीत चुके स्टार पहलवान सुशील कुमार ने सोशल मीडिया पर अपने प्रशंसकों से सहयोग और समर्थन करने की अपील की है। सुशील ने फेसबुक और ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें वह अपने फैन्स से अपील कर रहे हैं। सुशील कुमार और देश को ओलंपिक कोटा दिला चुके नरंिसह यादव के बीच 74 किग्रा फ्री स्टाइल वर्ग में ट्रायल कराने या न कराने का विवाद फिलहाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। हरियाणा के 32 वर्षीय पहलवान सुशील ने वीडियो में कहा कि मैं पिछले काफी समय से कड़ा अभ्यास कर रहा हूं और रियो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिये आपका सहयोग चाहता हूं। उन्होंने कहा कि अपने फैन्स के माध्यम से मैं यह संदेश देना चाहता हूं कि मैं ओलंपिक के लिये ट्रायल कराने की बात कह रहा हूं ताकि मैं यह साबित कर सकूं कि मैं देश के लिये एक और पदक लाने में सक्षम हूं। मैं सिर्फ इतना चाहता हूं कि सबसे अच्छा खिलाड़ी देश के लिए खेलने जाये। कहां गयी थी परंपरा जब 1996 में काका पवार और पप्पू यादव के बीच ट्रायल हुआ था।

सम्बंधित खबरॆ
खेल

अमेरिका ने जीती मेडले, फेल्प्स का रिकार्ड 23वां स्वर्ण

रियो डि जेनेरो। अमेरिका के चार गुणा 100 मीटर मेडले रिले स्वर्ण पदक जीतने के साथ ही ओलंपिक के सर्वश्रेष्ठ तैराक माइकल फेल्प्स का भी यहां रियो ओलंपिक में स्वर्णिम…

और पढ़े

Write Your Comment
 
 
http://www.lnstarnews.com/site_images/captcha/1498591493.01.jpg refresh
Facebook twitter google rss pinterest ln star news