Member Login

fb login Forgot Password ?

Not a member yet? Sign Up!

एथलेटिक्स में बड़ा पूल तैयार करने की जरूरत: ललिता

नई दिल्ली। रियो ओलंपिक में 3000 मीटर स्टीपलचेस में 10वें स्थान पर रही लंबी दूरी की धाविका ललिता बाबर ने सोमवार कहा कि भारत में ट्रैक और फील्ड में प्रतिस्पर्धा का अभाव है जिससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन ग्राफ बेहतर नहीं हो पाता। रियो ओलंपिक में ललिता एथलेटिक्स में फाइनल में जगह बनाने वाली अकेली भारतीय थी हालांकि वह 10वें स्थान पर रही। एथलेटिक्स में फरार्टा धाविका पी टी उषा (लास एंजीलिस ओलंपिक 1984) और फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह (रोम ओलंपिक 1960) के अलावा कोई भारतीय ओलंपिक पदक के करीब नहीं पहुंच सका। ये दोनों धुरंधर चौथे स्थान पर रहे थे।
ललिता ने यहां राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से अर्जुन पुरस्कार लेने के बाद उन्होंने कहा, ह्यभारत में एथलेटिक्स में प्रतिस्पर्धा का बहुत अभाव है। अगर मेरे वर्ग की ही बात करें तो इक्के दुक्के ही खिलाड़ी है। राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा नहीं होने से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन बेहतर नहीं हो सकता। उसने कहा, अगर हमें अंतरराष्ट्रीय स्पधार्ओं में बेहतर प्रदर्शन करना है तो पहले भारत में खिलाड़ियों का बड़ा पूल तैयार करना होगा ताकि उन्हें अच्छी तैयारी मिल सके। विदेश में काफी कठिन प्रतिस्पर्धा से निकलकर खिलाड़ी उच्च स्तर पर खेलने पहुंचते हैं जिससे उनका प्रदर्शन परिपक्व होता है। महाराष्ट्र के सातारा जिले की रहने वाली ललिता ने कहा कि स्कूली पाठ्यक्रम में खेलों को शामिल किये जाने की जरूरत है ताकि दूर दराज के इलाकों से प्रतिभायें निकल सके।

सम्बंधित खबरॆ
खेल

मान्यता पत्र रद्द करने की चेतावनी की खबरें बकवास: गोयल

रियो डि जेनेरो। भारत के खेल मंत्री विजय गोयल ने रियो ओलंपिक की आयोजन समिति की उनका मान्यता प्राप्त रद्द करने की चेतावनी की खबरों को पूरी तरह बकवास करार…

और पढ़े

Write Your Comment
 
 
http://www.lnstarnews.com/site_images/captcha/1498659120.71.jpg refresh
Facebook twitter google rss pinterest ln star news