मध्य प्रदेश राजनीति राज्य

सिंचाई को लेकर शिवराज के दावे तथ्यां से परेः कांग्रेस

भोपाल, 25 नवंबर (ब्यूरो ) कांग्रेस ने मध्यप्रदेश में सिंचाई व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के दावे को नकारते हुए इसे आंकड़ां की जादूगरी करार दिया और आरोप लगाया कि पूरे प्रदेश में सिंचाई परियोजनाओं के नाम पर भ्रष्टाचार हुआ है।

कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मुख्यमंत्री स्वयं को किसान पुत्र बताकर किसानां से ही छल कर रहे हैं। मुख्यमंत्री पूरे राज्य में 41 लाख हेक्टेयर भूमि पर सिंचाई की बात करते हैं, लेकिन सिंचाई विभाग के तथ्यां के आधार पर कुल 24-62 लाख हेक्टेयर में ही सिंचाई की व्यवथा है। उन्हांने कहा कि दावे और वास्तविकता में करीब 16 लाख हेक्टेयर का भारी अंतर है। उन्हांने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री आंकड़ां और जुमलां की खेती कर प्रदेश के किसानां को गुमराह कर रहे हैं।

श्रीमती चतुर्वेदी ने आंकड़ां का हवाला देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री कहते हैं कि कांग्रेस ने तो केवल 7-5 लाख हेक्टेयर सिंचाई सुविधा पैदा की थी। ये आंकघ्े 2002-03 के हैं जबकि कांग्रेस की दिग्विजय सिंह सरकार 2003-04 में 9,47,302 हेक्टेयर में सिंचाई क्षमता तैयार कर चुकी थी।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि वर्ष 2017-18 में रिकार्ड के अनुसार 17,89,074 हेक्टेयर शासकीय नहरां से एवं 2,64,690 हेक्टेयर शासकीय तालाबां से यानि कुल 20,53,764 हेक्टेयर सिंचाई हो रही है। जबकि स्वयं मुख्यमंत्री इसे 41 लाख हेक्टेयर बता रहे हैं।

उन्हांने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार के समय साल 2003-04 में 8103 किलोमीटर नहरे थी जबकि 2018 में यह बढ़कर 8964 किलोमीटर हो गयी। उन्हांने कहा कि प्रदेश में विकास के बड़े-बड़े दावे करने वाली भाजपा सरकार ने पंद्रह सालां में केवल 863 किलोमीटर नहरां का निर्माण कराया।

कांग्रेस प्रवक्ता ने सवालिया लहजे में कहा कि यदि कांग्रेस के समय 8103 किलोमीटर नहर से करीब दस लाख हेक्टेयर भूमि पर सिंचाई होती थी तो केवल 863 किलोमीटर नहर के बढ़ने से कैसे सिंचाई भूमि में 30 लाख से अधिक हेक्टेयर की वृद्धि हो गयी। उन्हांने कहा कि खुद को किसान पुत्र कहने वाले किसानां से ही धोखा कर रहे हैं।