राजनीति

माया, मुलायम एवं अखिलेश के सामने प्रत्याशी नहीं उतारेगी कांग्रेस

लखनऊ, (एजेंसी)। कांग्रेस पार्टी ने समाजवादी पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, बसपा अध्यक्ष मायावती, रालोद अध्यक्ष अजीत चौधरी व उनके पुत्र जयंत चौधरी के सामने प्रत्याशी नहीं उतारेगी। इसके अलावा सपा-बसपा गठबंधन के लिए सात और जन अधिकार पार्टी के लिए भी कांग्रेस पार्टी सात लोकसभा सीट छोड़ेगी। इसमें से पांच सीटों पर जन अधिकार पार्टी अपने चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ेगी, जबकि दो सीटों पर उसके प्रत्याशी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे। इसकी घोषणा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने रविवार को प्रेसवार्ता के दौरान की।

राजबब्बर ने अपना दल (कृष्णा पटेल) के लिए भी गोंडा और पीलीभीत दो सीटें छोड़ने का ऐलान किया है। राजबब्बर ने बताया कि मैनपुरी, कन्नौज, फिरोजाबाद और जहां से मायावती चुनाव लड़ेंगी वहां से कांग्रेस प्रत्याशी नहीं उतारेगी। इसी तरह रालोद के लिए जहां से अजीत सिंह और उनके बेटे जयंत चौधरी चुनाव लड़ेंगे उनके खिलाफ भी कांग्रेस पार्टी अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगी। राजबब्बर ने कहा कि हमारा मकसद भाजपा को रोकना है। इसलिए जमीनी नेताओं और दलों को अपने साथ लेकर कांग्रेस पार्टी चलेगी। जन अधिकार पार्टी के लिए कांग्रेस झांसी, चन्दौली, एटा और बस्ती लोकसभा सीट छोड़ेगी।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि फासीवादी ताकतें बढ़ रही हैं। फासीवादी सोच के लोग विपक्ष की बात सुनना नहीं पसंद करते हैं। कांग्रेस के लोग पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू से लेकर इंदिरा गांधी तक किसी ने विपक्ष की आवाज नहीं दबाई। राजबब्बर ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन ने कांग्रेस के लिए अमेठी और रायबरेली दो सीटें छोड़ी थी। लिहाजा, कांग्रेस पार्टी भी अपना फर्ज अदा करते हुए सपा-बसपा के लिए सात सीटें छोड़ रही है। कांग्रेस बड़ा दल है। इसलिए इसका दिल भी बड़ा है। हिस