खेल

बेंगलुरु के लिए अपना 150वां मैच खेलने उतरेंगे छेत्री

बेंगलुरू, 25 नवंबर (ब्यूरो ) बेंगलुरू एफसी को सोमवार को श्री कांतिरवा स्टेडियम में दिल्ली डायनामोज से भिघ्ना है। यह मैच बेंगलुरू के कप्तान सुनील छेत्री के लिए खास होगा क्यांकि इस क्लब के लिए यह उनका 150वां मैच होगा और वह इस मौके को खास बनाना चाहेंगे।
छेत्री वर्षों से बेंगलुरू एफसी का चेहरा हैं। इस क्लब के लिए उन्हांने कई कारनामे किए हैं और उनकी कप्तानी में ही क्लब ने बीते साल पहली बार आईएसएल में खेलते हुए फाइनल में जगह बनाई थी। फाइनल में उसे चेन्नइयन एफसी के हाथां हार मिली थी।

सोमवार को होने वाला मैच बेंगलुरू के लिए अहम होगा क्योकि अभी वह 10 टीमां की तालिका में दूसरे स्थान पर है। दूसरी ओर, दिल्ली की टीम अंतिम स्थान पर है। बेगलुरू की टीम यह मैच जीतकर पहले स्थान पर पहुंचना चाहेगी तो दिल्ली की टीम भी स्थान परिवर्तन करना चाहेगी।

बेंगलुरू एफसी इस सीजन की एकमात्र ऐसी टीम है, जो अब तक अजेय है। इस टीम ने छह मैच खेले हैं। इस टीम ने अपने अंतिम मैच में एफसी गोवा को 2-1 से हराया था और वह भी 10 खिलाघ्यि के साथ खेलते हुए। उस मैच में डिमास डेल्गाडो को लाल कार्ड मिला था और फलस्वरूप वह दिल्ली के खिलाफ नहीं खेल सकेंगे।

चोट के कारण स्ट्राइकर मीकू और एरिक पार्टालू गोवा के खिलाफ नहीं खेल सके थे। पार्टालू ने पैर के अंगूठे की सर्जरी कराई है और वह कुछ अन्य मैचां में भी नहीं खेल सकेंगे। मीकू की वापसी हो सकती है लेकिन सबकुछ उनकी फिटनेस टेस्ट पर निर्भर करेगा।

मीकू अगर फिनेटस टेस्ट में नाकाम होते हैं तो फिर चेंचो गाइलस्टीन को फिर मौका मिलेगा। चेंचो ने गोवा के खिलाफ पदार्पण किया था। वह छेत्री के साथ आक्रमण पंक्ति की कमान सम्भालेंगे। छेत्री इस सीजन में अब तक पांच गोल कर चुके हैं।

दूसरी ओर, दिल्ली की टीम की आक्रमण पंक्ति अब तक कमजोर रही है। इस टीम ने आठ मैचां में अब तक सिर्फ सात गोल किए हैं। इस टीम ने कई अच्छे मौके बनाए हैं लेकिन उन्हें गोल में बदलने में नाकाम रही है।

कोच जोसेफ गोम्बाउ को उम्मीद है कि उनके ख़िलाड़ी अच्छे खासे आराम के बाद मैदान पर जरूरी तेजी दिखाएंगे और पहले चरण की नाकामी को भूलकर दूसरे चरण में अच्छा प्रदर्शन करेंगे।

प्रीतम कोटाल और नारायन दास को डिफेंस की कमान सम्भालनी होगी क्यांकि डिफेंस ने अब तक 13 गोल खाए हैं। दिल्ली टीम का संयोजन इस पर निर्भर करेगा कि गोम्बोउ अल्बीनो गोम्स को गोलकीपिंग की जिम्मेदारी देना चाहते हैं या फिर फ्रांसिस्को डोरोनसोरो को।

डेनिएल लालहिम्पुइया बेंगलुरू के खिलाफ अच्छा खेल दिखाना चाहेंगे क्यांकि बीते सीजन में आईएसएल में इस क्लब के लिए उन्हें सिर्फ पांच मिनट मैदान पर बिताने का मौका मिला था।