विशेष खबरे समाचार

किन्नौर में भारी बर्फबारी, हिमखंड में दबे जवानों का तलाशी अभियान प्रभावित

शिमला, (एजेंसी)। हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिले किन्नौर में बर्फबारी का दौर शुक्रवार को भी जारी है। जिले के ऊंचाई वाले स्थानों में गुरुवार रात से भारी बर्फबारी हो रही है। खराब मौसम के कारण नमज्ञा पंचायत के डोगरी नाले में हिमखंड के नीचे दबे सेना के पांच जवानों का तलाशी अभियान आज अभी शुरू नहीं हो पाया है। ये जवान बीते बुधवार से हिमखंड में दबे हुए हैं। भारी बर्फबारी के कारण गुरूवार को भी रेस्क्यू ऑपरेशन प्रभावित रहा था। भारत-चीन सीमा से सटे शिपकिला की बीते 20 फरवरी (बुधवार) को हिमखंड गिरने से ये जवान बर्फ में दबे हुए हैं।

किन्नौर के उपायुक्त गोपाल चन्द ने शुक्रवार को बताया कि इलाके में बर्फबारी के चलते और पिछले कल इसी स्थान पर एक और हिमखण्ड गिरने से बर्फ में दबे जवानों को निकालने में बाधा आ रही है। उन्होंने बताया कि हिमखण्ड की चपेट में आने से आईटीबीपी के पांच जवान भी घायल हुए हैं। उपायुक्त ने बताया कि 250 जवानों का बचाव दल मौसम के सुधरने पर ही तलाशी अभियान में जुटेगा।

उल्लेखनीय है कि बीते 20 फरवरी को नमज्ञा डोगरी नाला में हिमखंड गिरने से भारतीय सेना के छह जवान इसकी चपेट में आ गए थे। इनमें से पांच जवान अभी भी बर्फ में दबे हुए हैं। बर्फ से निकाले गए एक जवान की अस्पताल में मृत्यु हो गई थी। जवान की पहचान हिमाचल के बिलासपुर जिले के झण्डूता के हवलदार राकेश कुमार के रूप में की गई है। ये सभी जवान जे.के. राइफल्स के हैं जो अपनी पोस्ट के नजदीक ही पैट्रोलिंग डयूटी पर थे। खराब मौसम के चलते जवान के पार्थिव शरीर को अभी तक उसके पैतृक गांव नहीं भेजा जा सका है। लापता पांच जवानों में विदीश चंद, गोविंद बहादुर, राजेश ऋषि, अर्जुन कुमार और नितिन राणा शामिल हैं। ये जवान डयूटी पर तैनात थे और अचानक हिमस्खलन की चपेट में आ गए। इनमें राजेश ऋषि और नितिन राणा हिमाचल प्रदेश के नालागढ़ और जयसिंहपुर के रहने वाले हैं।
हिस