मध्य प्रदेश

आरक्षण देने से पल्ला झाड़ रही कमलनाथ सरकार

भोपाल (एजेंसी)। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने बुधवार को विधानसभा सत्र में कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि सरकार से सदन में सवाल पूछा जाता है तो उनके मंत्रियो को जवाब पता नहीं होते। कांग्रेस कार्यालय से हरी झंडी मिलने के बाद जवाब बन रहें हैं। सदन के अंदर मंत्री लिखित में जो जवाब देते हैं, सदन के बाहर आते ही बड़े नेताओं की फटकार के बाद उन जवाबां से मुकर जाते हैं। मंत्रियों को बुलाकर पीसीसी में डांटा जा रहा है। प्रदेश में एक तरह का संवैधानिक संकट खड़ा हो गया है।


बुधवार को विधानसभा सत्र में विपक्ष ने कमलनाथ सरकार के दिये गये जवाबों पर नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री कांग्रेस के वचन पत्र को ब्लूप्रिंट कहते हैं, लेकिन सत्ता मे आते ही अपने ही वचन पत्र से मुकर जाते है। वचन पत्र में 1 हजार रू. सामाजिक सुरक्षा पेंशन देने का वचन देते है। गणतंत्र दिवस पर मुख्यमंत्री कमलनाथ 600 रूपए पेंशन देने की घोषणा कर जल्द इसकी राशि 1 हजार रू. करने की बात करते हैं, लेकिन मेरे द्वारा यह सवाल पूछे जाने कि क्या सरकार ने प्रतिमाह 1 हजार रू. पेंशन का वचन दिया है, इसके उत्तर मे विभागीय मंत्री श्री लखन घनघोरिया सरकार द्वारा वचन नही दिये जाने का जवाब देते है। यह झूठी कांग्रेस के चरित्र को दर्शाता है।

गरीब सवर्ण आरक्षण को टाल रही सरकार
नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने मध्यप्रदेश में गरीब सवर्णों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण लागू करने कि मांग करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने संविधान संशोधन कर देश के गरीब सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का काम किया ताकि गरीब परिवारों के सामान्य वर्ग के युवा आगे बढें। उत्तरप्रदेश गुजरात और महाराष्ट्र जैसे कई राज्यों ने लागू कर दिया लेकिन मध्यप्रदेश सरकार इसे लागू नही करना चाहती। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को यह डर है कि अगर प्रदेश में इसे लागू करती है, तो इसका लाभ भाजपा को होगा। राजनीतिक नफे नुकसान को लेकर तीन मंत्रियों की समिति बनाकर कमलनाथ सरकार इससे पल्ला झाड़ना चाहती है।
जनता कांग्रेस को समझ चुकी है।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सरकार ने गरीबों को संबल योजना के माध्यम से बल देने का काम किया, लेकिन कांग्रेस सरकार आते ही संबल योजना का लाभ वंचित गरीबों को मिलना बंद हो गया है। स्वेच्छानुदान और राज्य बीमारी सहायता का लाभ जनता को नही मिल पा रहा है। गरीब जनता त्रस्त और सरकार के मंत्री सिर्फ ट्रांसफर पोस्टिंग में मस्त है, उन्हें गरीबों की कोई चिंता नही है। उन्होंने कहा कि जनता कांग्रेस को पूरी तरह समझ चुकी है। आने वाले लोकसभा चुनाव में जनता इसका जवाब कांग्रेस को जरुर देगी।