देश

असम: दो जिलों में जहरीली शराब का कहर, 36 की मौत, 50 से ज्यादा बीमार

गोलाघाट/जोरहाट, (एजेंसी)। ऊपरी असम के गोलाघाट और जोरहाट जिलों में जहरीली शराब पीने से कुल 36 लोगों की मौत हो गई, जबकि 50 से अधिक लोग गंभीर रूप से बीमार बताए गए हैं। गोलाघाट जिले के शालमारा चाय बागान में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या 27 पहुंच गई गई है, जबकि 50 से अधिक लोग बीमार हैं। उनमें से कई लोगों की हालत चिन्ताजनक बनी हुई है। घटना की गंभीरता के मद्देनजर मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने स्थिति का जायजा लेने के लिए मंत्री तपन कुमार गोगोई, सांसद कामाख्या तासा और विधायक मृणाल सैकिया को गोलाघाट भेजा है। मुख्यमंत्री ने इस मामले की जांच के लिए ऊपरी असम डिवीजन की कमिश्नर जुली सोनोवाल के नेतृत्व में एक सदस्यीय कमेटी का गठन किया है।

शुक्रवार को जिला उपायुक्त पुलिस अधीक्षक और अन्य संबंधित अधिकारियों के साथ मौके और अस्पताल का जायजा लिया। साथ ही मामले की दंडाधीश स्तर की जांच के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा आबकारी विभाग को इलाके में चल रहे शराब के अवैध कारोबार को पूरी तरह से नष्ट करने का कड़ा निर्देश दिया है, वहीं आबकारी विभाग के मंत्री परिमल शुक्लबैद्य ने इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए इलाके के दो आबकारी इंस्पेक्टर पराग चेतिया समेत दो अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। साथ ही उन्होंने भी एक जांच का आदेश दिया है।

उल्लेखनीय है कि गुरुवार रात शालमारा चाय बागान में काफी संख्या में महिला एवं पुरुषों ने शराब का सेवन किया था। देर रात इनमें से चार महिला श्रमिकों की मौत हो गई। शुक्रवार को दोपहर तक कुल मृतकों की संख्या 27 हो गई है, जिनमें शालमरा चाय बागान के कुल 19 लोग शामिल हैं- अग्नि ग्वाला, द्रोपदी उरांग, बंधन बाउरी, बेलो भूमिज, दुलाल उरांग, शुकलाल पूजर, एतवा पूजर, शांति पूजर, विनती भक्त, मीना पूजर, सुनिता पूजर,धातुवार तांती, संजू उरांग, भाकरू पूजर, पिंकी बाउरी, प्रवीन पूजर, मन घटोवार, सेप्ती कर्मकार, विकास पूजर तथा नरा गांव के सोनेश्वर गोगोई, नरागांव के आनंद बोरा तथा योगीबारी गांव के सुरेन गोगोई के रूप में शिनाख्त हुई है। वहीं मेरापनी के गोबिनपुर के चार लोगों की मौत हुई जिनकी शिनाख्त मनिराम दत्त, कमल गोगोई, पापू बोरा, ललित गोगोई के रूप में की गई है। इनके अलावा 50 लोग जहरीली शराब के सेवन से बीमारा हैं, उनका शहीद कुशल कोंवर जिला सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है। इनमें से कईयों की हालत गंभीर बनी हुई है।

दूसरी घटना जोरहाट जिले के जोरहाट जिले में भी जहरीली शराब से सात लोगों की मौत हो गई है। कुछ लोगों की हालत गंभीर है। यह सूचना मिलते ही जिला प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए हैं। जिले के तीताबर थाना अंतर्गत बरहोला में जहरीली शराब पीने से सात लोगों की मौत हो गई। जबकि कई की हालत गंभीर बताई गई है। जिन्हें जोरहाट मेडिकल कालेज अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। मृतकों की पहचान मृतकों की पहचान दिपेन साउताल, राइमनि तांती, प्रमिला नायक, संजय कल, टंकेश्वर सैकिया, जितू कछारी, अनीस अली, कुषेश्वरी सैकिया व अन्य एक शामिल हैं। जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन के अधिकारी घटना पर नजर बनाए हुए हैं।
लोगों का आरोप है कि गोलाघाट आबकारी विभाग की लापरवाही और कमीशनखोरी के चलते ही इलाके में देसी शराब का धंधा फल-फूल रहा है। दरअसल, आदिवासी और जनजाति समाज में घरों में शराब बनाकर पीने का प्रचलन है, लेकिन कुछ लोग इसका फायदा उठाते हुए चाय बागानों में खुलेआम देसी शराब का कारोबार करते हैं और इसी तरह की शराब पीकर इतने लोगों की मौत हुई है। दोनों मामलों में प्राथमिकी दर्ज कर पुलिस गहन जांच-पड़ताल कर रही है।